क्या होता है YO - YO टेस्ट ? कैसे किया जाता है YO - YO टेस्ट ? YO-YO टेस्ट क्यों जरूरी है ? आम लोगों के लिए YO-YO टेस्ट

नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल में मैं आपको बताने वाला हूं यो यो टेस्ट के बारे में सभी जानकारियां जो आप जानना चाहते हैं क्योंकि हाल ही में इंडियन क्रिकेट टीम के प्लेयर अंबाती रायडू जो कि यो यो टेस्ट में फेल हो चुके हैं और अब वह इंग्लैंड दौरे पर नहीं जा पाएंगे तो यो यो टेस्ट आखिर होता क्या है इसमें क्या करना होता है खिलाड़ियों को और कैसे खिलाड़ी इस को पार करके अपनी स्टेमिना को बढ़ा सकता है अपने
एंडुरेंस को बढ़ा सकता है तो यह सब जानकारी मैं आपको दूंगा इस आर्टिकल में तो आशा करता हूं आपको मेरा आर्टिकल पसंद है अगर पसंद आता है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल पाए तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं




क्या होता है YO - YO टेस्ट



तो दोस्तों अगर आप भी यो यो टेस्ट को लेकर थोड़े कंफ्यूज हो गए हैं कि यो यो टेस्ट आखिर होता क्या है तो मैं आपको पूरी जानकारी दे देता हूं तो पहले क्या होता था पहले Beep टेस्ट नामक एक टेस्ट होता था जिसमें 20 मीटर के दायरे को प्लेयरों को भाग के कवर करना होता था जो कि जैसे-जैसे लेवल बढ़ते जाते टाइम भी कम होता जाता था इसी का EXTENDED वर्जन है यो यो टेस्ट इस टेस्ट के माध्यम से जितने भी प्लेयर है उनकी स्पीड को टेस्ट किया जाता है उनके endurance व स्टेमिना को भी टेस्ट किया जाता है तथा यह जांचा जाता है कि क्या वह इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने लायक है या नहीं


कैसे किया जाता है YO - YO टेस्ट



तो दोस्तों यो यो टेस्ट करने का सबसे आसान तरीका यह है कि 3 पॉइंट बना दिए जाते हैं ए बी और सी,  ए और बी के बीच दूरी 5 मीटर की होती है और B , C की दूरी जो होती है वह 20 मीटर की होती है तो ऐसे ही बहुत सारे लेवल होते हैं उनको प्लेयरों को पार करना होता है पहले लेवल में आपको ज्यादा समय दिया जाता है और जैसे-जैसे लेवल बढ़ते जाते हैं वैसे वैसे जो समय है वह कम होता जाता है और प्लेयरों को एक तरीके से SPRINT  होती है ताकि वह ज्यादा से ज्यादा एरिया को कवर कर पाए कम से कम समय में

YO-YO टेस्ट क्यों जरूरी है

तो दोस्तों बहुत से लोगों का यह सवाल होता है कि यो यो टेस्ट आखिर क्यों जरूरी है तो चलिए हम बता देते हैं यो यो टेस्ट आखिर किसी भी प्लेयर के लिए क्यों जरूरी होता है क्योंकि यो यो टेस्ट के जरिए ही क्रिकेट प्लेयर्स की या किसी भी तरह के प्लेयर्स की स्टेमिना को उनके endurance को जांचा जाता है कि वह उस लेवल पर खेलने लायक है या नहीं अब मान लीजिए क्रिकेट में कोई बड़ी दौड़ तो लगानी नहीं होती है मात्र wickets के बीच दौड़ना पड़ता है इसलिए उनकी स्पीड को बढ़ाया जाता है इसकी मदद से ताकि ज्यादा से ज्यादा DISTANCE COVER KAR पाए और वह भी बहुत ही कम समय में


आम लोगों के लिए YO-YO  टेस्ट

तो अगर आप भी यो यो टेस्ट करना चाहते हैं या चाहते हैं कि एक बार यो यो टेस्ट आजमाएं तो आम लोगों के लिए सबसे आसान तरीका है यो यो टेस्ट करने का कि अगर आप 8 मिनट में 2 किलोमीटर की दूरी तय कर लेते हैं  तो आप यो यो टेस्ट के लिए सक्षम है

तो बस दोस्तों आज के लिए बस इतना ही आशा करता हूं अब आप के मन से यो यो टेस्ट के प्रति जितने सवाल थे सब दूर हो चुके होंगे तो अगर आपको मेरा आर्टिकल पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों को भी शेयर जरूर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल पाए

क्या होता है YO - YO टेस्ट ? कैसे किया जाता है YO - YO टेस्ट ? YO-YO टेस्ट क्यों जरूरी है ? आम लोगों के लिए YO-YO टेस्ट क्या होता है YO - YO टेस्ट ? कैसे किया जाता है YO - YO टेस्ट ? YO-YO टेस्ट क्यों जरूरी है ? आम लोगों के लिए YO-YO  टेस्ट Reviewed by Ravi Kumar on June 17, 2018 Rating: 5

No comments:

Do Not Try To Spread Spam

Powered by Blogger.